अपने परिवार का इतिहास अध्ययन करें

नस्ल परिचय

परिचय

भारत में हमारे समाज में अपने परिवार का इतिहास महत्वपूर्ण होता है। इसके विषय में जानकारी द्वारा हम न केवल अपने परिवार के बारे में जान सकते हैं, बल्कि हम सम्पूर्ण मानव इतिहास के बारे में भी जान सकते हैं। अपने परिवार का इतिहास अध्ययन करने के तरीके को इस लेख में जानें।

परिवार की जानकारी एकत्र करें

पहला कदम हमें हमारे परिवार की जानकारी एकत्र करने का होता है। इसके लिए हमें अपने परिवार के सबसे बुजुर्गों से बातचीत करनी चाहिए। उनसे हमें उनके बचपन, उनके माता-पिता, उनके दोस्त, उनकी शादी जैसी जानकारी मिल सकती है। इसके अलावा हम अपने परिवार के दस्तावेज, फोटो एल्बम, पत्रों और अन्य साक्ष्य धारक दस्तावेजों की जाँच कर सकते हैं। यदि हमें कोई रिकॉर्ड नहीं मिलता है, तो हम नगर पालिका का मदद ले सकते हैं। नगर पालिका को आधार कार्ड (Aadhaar Card), पासपोर्ट (Passport), सहकारी कार्ड आदि जैसे साक्ष्य धारक दस्तावेजों का भी कोपी प्रदान किया जा सकता है।

अपने परिवार के इतिहास की संदर्भ सूची बनाएं

जब हमें हमारे परिवार की जानकारी एकत्र हो जाये तो हमें उसे क्रमबद्ध करना चाहिए। इससे हमें जानकारी को संग्रहीत रखने में आसानी होगी और किसी भी जरूरी संदर्भ को धुंधने में मदद मिलेगी। इस उद्देश्य से हम अपने परिवार के इतिहास की संदर्भ सूची बना सकते हैं। ये संदर्भ सूची निम्नलिखित तत्वों को शामिल कर सकती है:

जन्म समय और स्थान

इस संदर्भ में हमें अपने परिवार के सदस्यों के जन्म के तारीख, उनके जन्म स्थान, उनकी कुल की जानकारी आदि को शामिल करना चाहिए। इससे हमें उनका स्वभाव, स्वास्थ्य स्तिथि और अन्य संबंधित विवरणों का पता चल सकता है। इसके लिए हम बचपन से लेकर उनकी स्कूल, कॉलेज आदि में कितनी पढ़ाई कराई गई है इस तरह के तथ्यों को शामिल कर सकते हैं।

उनके वैवाहिक संबंध

ये परिवार के सदस्यों के वैवाहिक संबंध के बारे में होते हैं। इससे हमें सांस्कृतिक और धार्मिक संबंधों का पता चलता है और उनके प्रेमिका / प्रेमी को भी शामिल कर सकते हैं।

व्यवसायिक जीवन

इस संदर्भ में हमें अपने परिवार के सदस्यों के व्यवसायिक जीवन को शामिल किया जाना चाहिए। ये जानकारी परिवार के उत्पादक एवम् व्यापारी बनने का कारण बन सकती है।

विदेश जाने वाले सदस्य

इस संदर्भ में हमें अपने परिवार के सदस्यों को जो विदेश जाते हैं उनका नाम, पता, विदेशी शिक्षा, उनकी अनुभव पर आधारित जानकारी शामिल करना चाहिए। ये जानकारी परिवार के अन्य सदस्यों के लिए बहुत महत्वपूर्ण होती है।

संपत्ति

संदर्भ में हमें अपने परिवार की संपत्ति को शामिल करना चाहिए। इससे हमें अपने परिवार की धन विभाजन और वारिसों का पता चलता है।

रोचक किस्से

इस संदर्भ में हमें अपने परिवार के रोचक किस्सों को शामिल करना चाहिए। ये किस्से अक्सर सबसे ज्यादा यादगार होते हैं।

परिवार के सपूतों के नाम सोचें

जब हमारे परिवार की संदर्भ सूची तैयार हो जाए, तो हमें अपने परिवार के महत्वपूर्ण सदस्यों का नाम सोचकर उनके नामों की तालाश करनी चाहिए। यदि हमें इस बारे में कोई जानकारी नहीं मिलती है तो हम नागरिक नोंदणी विभाग से भी इस संबंध में जानकारी ले सकते हैं।

परिवार के सदस्यों से बात करें

जब हम परिवार के सदस्यों का नाम जान लेते हैं तो हमें उनसे बात करना चाहिए। उनसे हम इतिहास, उनके बचपन के वर्णन, नामों की तालाश, आवश्यकताएँ आदि के बारे में पूछ सकते हैं।

इतिहास को वैकल्पिक संसाधनों से जोड़ें

पाठग्रंथों, जैसे महत्वपूर्ण व्यक्तिओं को लेखन, धर्मग्रंथों, राजनीतिक इतिहास, विज्ञान आदि की तपसीलीय जानकारी हमारे परिवार के इतिहास को बहुत अधिक ज्ञानवर्धक बना सकती है। यदि भाषा का मुद्दा है तो हम उन्हें अपनी अनुवाद का भी सहारा ले सकते हैं।

इतिहास का रोचक बनाएं

हमारे परिवार को अध्ययन करने से हमें इस संदेश का पता चलता है कि लोग कैसे अपने पूर्वजों के संबंध में सोचते हैं, जो एक कुछ रोचक कहानी बना सकते हैं। लोगों को इतिहास से जोड़ना एक अच्छा तरीका है कि उन्हें उनके पूर्वजों के बारे में ज्ञान प्रदान किया जा सके। इससे भविष्य के लिए उन्हें अपने संबंधों की उपयोगी जानकारी मिल सकती है।

संदर्भ

अपने परिवार का इतिहास अध्ययन करने के तरीकों का अध्ययन करने से, हम अपने पूर्वजों को जान सकते हैं और उनसे जुड़े अधिकांश संदर्भों को ढूंढने की क्षमता बढ़ती है। इस संदर्भ में, हम एक उत्पादक खानदान में शुरूआत से बजरंग दाल माखनलाल के जिंददिल साथियों और उनके सौदागरों के बारे में जानकारी दे सकते हैं। इस समूह के सदस्यों ने देश के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और हमें उन्हें सम्मान देना चाहिए