कुछ भारतीय अंग्रेजी अपने बच्चों के नाम में

नस्ल परिचय

भारतीय अंग्रेजी नाम: विस्तार से समझें

भारत में अनुवाद की समस्याओं के बीच अंग्रेजी सभी के लिए सबसे आसान रहती है। भारत में एक समझौता हुआ है कि लोगों को जो नाम अंग्रेजी में पसंद होते हैं वे अपने बच्चों के नाम उस तरह से रखते हैं। यह एक विशिष्ट प्रथा है जो मुख्यतः शहरी क्षेत्रों में पाई जाती है। इस अनुच्छेद में हम भारत में इस प्रथा के बारे में विस्तार से जानेंगे।

प्रथम सेक्शन: सबसे लोकप्रिय नाम

भारत में अंग्रेजी नाम के बहुत से विकल्प हैं। इनमें से कुछ नाम बहुत लोकप्रिय हैं। जैसे, अभिषेक, आर्यन, आदित्य, अदिति, अनमोल, आर्या, अविनाश, अर्जुन, अमन आदि। यह नाम भारत के अलग-अलग राज्यों में भिन्न-भिन्न रहते हैं लेकिन वे सभी बहुत लोकप्रिय हैं।

द्वितीय सेक्शन: संगठित नाम

अंग्रेजी नाम न केवल भारत में लोकप्रिय होते हैं बल्कि ये संगठित तरीके से रखे जाते हैं। ये नाम विस्तृत गंगा यमुना बेल्ट में सर्वाधिक देखे जाते हैं। उदाहरण के लिए, जैसे श्रीलेखा पंडित, अमित सिंह राठौड़, अभय महाजन, अंकित नायक आदि। ये नाम शहरी समुदायों के बीच खूब पसंद किए जाते हैं।

तीसरी सेक्शन: संघर्ष के नाम

कुछ अंग्रेजी नाम भारत में संघर्ष की कहानी से जुड़े हुए होते हैं। ये नाम उन लोगों के लिए होते हैं जो तनाव भरी जिंदगी जीते हैं। चीचू, चंचल, डबली, फिडा, विड, कोलंबस, बाड़ा, बेबी आदि अंग्रेजी नामों में कुछ इस तरह के नाम होते हैं।

चौथी सेक्शन: धार्मिक नाम

अंग्रेजी नाम धार्मिक नामों में भी बहुत से मिलते हैं। ये नाम वहाँ की धार्मिक परंपराओं से लिए जाते हैं। इसमें इस्लामी नाम, हिंदू नाम और सिख नाम शामिल होते हैं। उदाहरण के लिए, अंजुम, मुर्तुज़ा, एल्मा, काजल, शाहनाज़, जय, गुरीब, तेग बहादुर, राजिंदर सिंह आदि।

पांचवा सेक्शन: विदेशी नाम

इस दौर में, अंग्रेजी नाम को कुछ विदेशी नामों से भी प्रभावित किया जाता है। अब शहरी क्षेत्रों में नौकरी करने वाले लोग या फिर विदेश से वापस आने वाले लोग अपने बच्चों के नाम इस तरह के नामों में रखते हैं। ये नाम संगीत, फिल्मों या पुस्तकों से होते हैं। उदाहरण के लिए, मिलन, इशा, लैला, शाकीर, जॉर्ज, रोज, औरोरा आदि।

समाप्ति

भारत में अंग्रेजी नामों को रखना एक विशिष्ट प्रथा है। ये नाम लोगों को सोशल नेटवर्क, नौकरी या विदेश जाने में जादा मददगार होते हैं। आजकल, भारत में इन नामों का उपयोग बढ़ता जा रहा है और वे समृद्ध इतिहास और संस्कृति के अंश होते हैं।